26 जनवरी को दिल्ली पुलिस के जवानों पर प्राणघातक हमला करने वाले किसान नहीं, अपराधी थे - डा. आनंद कुमार





कनाट प्लेस में एकत्रित सैकड़ों प्रदर्शनकारियों को संबोधित करते हुए डा. आनंद कुमार, राष्ट्रीय अध्यक्ष, राष्ट्र निर्माण पार्टी ने तथाकथित किसान आंदोलनकारियों द्वारा 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के अवसर पर जिस प्रकार योजनाबद्ध तरीके से समाज एवं देश की रक्षा में तत्पर दिल्ली पुलिस के जवानों, अर्द्धसैनिक बलों एवं उनके अधिकारियों पर खतरनाक व धारदार हथियारों से जान लेने की नीयत से हमले किए गए, दिल्ली में विशाल पैमाने पर हिंसा व तोड़फोड़  की गई, साथ ही लालकिले पर हमारी आन-बान और शान के प्रतीक तिरंगे झंडे का अपमान किया, उसकी घोर निंदा करते हुए कहा कि जब व्यक्ति संकट में होता है तो भगवान के बाद पुलिस को ही याद करता है और पुलिस भी दिन-रात, सर्दी-गर्मीभूख-प्यास, गरीबी-अमीरी, मत-पंथ की परवाह किए बिना समाज के हर वर्ग को सुरक्षा देती है। ऐसे पुलिस के जवानों पर हमला केवल अपराधी ही कर सकते हैंकिसान नहीं। इसलिए राष्ट्र निर्माण पार्टी मांग करती है कि ऐसे अपराधियों के विरूद्ध कड़ी से कड़ी कार्यवाही की जाए।

डा. कुमार ने स्वीडन की पर्यावरण कार्यकर्त्ता ग्रेटा थनबर्ग के टूलकिट का उल्लेख करते हुए बताया कि अब स्पष्ट हो चुका है कि किसान आंदोलन के कार्यक्रम चाहे 26 जनवरी का हो या 6 फरवरी का, सब कुछ भारत विरोधी विदेशी ताकतें निर्धारित करती हैं तथा फंडिंग भी बाहर से हो रही है। तथाकथित किसान नेता तो जाने-अनजाने में विदेशी शक्तियों के मोहरे बनकर के रह गए हैं।

पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राकेश कुमार आर्य ने कांग्रेस, अकाली दल व केजरीवाल सरकार पर आरोप लगाया कि ये पार्टियां अपने तुच्छ राजनैतिक स्वार्थ में इतनी अंधी हो गई हैं कि वे किसानों के नाम पर देश की एकता एवं अखंडता से भी समझौता कर रही हैं। वे उन लोगों के बचाव में खड़ी हैं जिन्होंने दिल्ली दंगा भड़कायापुलिस जवानों के साथ मारपीट की, तिरंगे का अपमान किया और गणतंत्र दिवस के सम्मान को ठेस पहुंचाई। मोदी सरकार को कमजोर सरकार बताते हुए उन्होंने कहा कि यदि पर्याप्त पुलिस बल की व्यवस्था दिल्ली में की गई होती तो पुलिस के जवानों को आंदोलनकारियों द्वारा की गई हिंसा का सामना नहीं करना पड़ता।

पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव मनोज गुलाटी ने स्पष्ट किया कि राष्ट्र निर्माण पार्टी किसानों की मांगों का समर्थन करती है तथा उनका शांतिपूर्ण समाधान चाहती है। किंतु किसानों की आड़ में जो विघटनकारी ताकतें अपना खेल खेल रही हैं, उनका विरोध करती है।

इस अवसर पर प्रसिद्ध वैदिक विद्वान स्वामी तपस्वी, आचार्य जयेन्द्र, राधाकांत शास्त्री, राष्ट्रीय सचिव, दानवीर विद्यालंकार, राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष, पार्थ सिंह चौहान, राकेश कुमार सिंह चौहान आदि ने भी अपने विचार व्यक्त किए। ध्यान रहे कि आज का प्रदर्शन राष्ट्र निर्माण पार्टी द्वारा दिल्ली पुलिस के समर्थन में किया था।

टिप्पणियां
Popular posts
वरिष्ठ साहित्यकार और भारत के शिक्षा मंत्री डॉ.रमेश पोखरियाल 'निशंक' ने कवि "बी.एल.गौड़ का गीत-लोक" (सजग प्रकाशन, दिल्ली) एवं वरिष्ठ साहित्यकार डॉ.बी.एल.गौड़ ने शिक्षा मंत्री डाॅ.निशंक की कहानियों पर केंद्रित "अंतहीन विमर्शों का पुंज" (अनंग प्रकाशन, दिल्ली) पुस्तकों का लोकार्पण किया।
इमेज
निर्यातकों की आईजीएसटी रिफंड की समस्या को देखते हुए सीबीआईसी ने सुविधा दी
व्यंग्य यात्रा को हिंदुस्तानी प्रचार सभा का 75,000 रुपए की राशि का पुरस्कार।
इमेज
69 करोड़ रुपये से अधिक का जीएसटी का फर्जीवाड़ा , एक शख्स गिरफ्तार
भारतीय स्टेट बैंक ने मथुरा में ऋण सुविधा समारोह का आयोजन किया और वृंदावन के छत्रीकारा स्थित वृद्धाश्रम में सीएसआर गतिविधि का आयोजन किया।
इमेज