दिल्ली को नल से 24 घंटे साफ पानी ?

  • सीएम अरविंद केजरीवाल ने की पूरे दिल्ली को नल से 24 घंटे साफ पानी देने की योजना की समीक्षा
  • दिल्ली को नल से 24 घंटे साफ पानी उपलब्ध कराना हमारी सबसे बड़ी प्राथमिकता, दिल्ली जल बोर्ड सभी परियोजनाओं को तय समय सीमा के अंदर पूरा करे- अरविंद केजरीवाल
  • दिल्लीके जल मंत्री व दिल्ली जल बोर्ड के अधिकारियों के साथ सीएम अरविंद केजरीवाल ने की परियोजनाओं की समीक्षा बैठक


मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सभी दिल्ली वासियों को नल से 24 घंटे साफ पानी देने के लिए दिल्ली जल बोर्ड की चल रही परियोजनाओं की समीक्षा की। अपने आवास पर एक उच्च स्तरीय बैठक करते हुए सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली के निवासियों को नल से 24 घंटे साफ पानी उपलब्ध कराना हमारी प्राथमिकताओं में शामिल है। लिहाजा, इन परियोजनाओं को हर हाल में तय समय सीमा के अंदर पूरा होगा। सीएम ने कहा कि सभी परियोजनाओं को पूरा करने की समय सीमा निर्धारित है और उसी समय सीमा में काम पूरा करना है। समीक्षा बैठक में दिल्ली के जल मंत्री सतेंद्र जैन और दिल्ली जल बोर्ड के उपाध्यक्ष राघव चड्ढा व अन्य अधिकारी मौजूद थे। 

समीक्षा बैठक में दिल्ली जल बोर्ड ने बताया कि दिल्ली के लोगों को नल से 24 घंटे साफ पानी की आपूर्ति करने की परियोजना पर तेजी से काम चल रहा है। इसके साथ ही भविष्य में पानी की बढ़ती मांग के अनुसार जलापूर्ति की क्षमता बढ़ाने वाली परियोजनाओं पर भी युद्ध स्तर पर काम चल रहा है। इस दौरान डीजेबी के एसटीपी और डीएसआईआईडीसी के सीईटीपी का पुनर्नवीनीकरण करके पानी के उपयोग को बढ़ाने और सीईटीपी को अपग्रेड करने के लिए चल रही परियोजनाओं पर भी विस्तार से चर्चा की गई। दिल्ली जल बोर्ड ने 70 एमजीडी कोरोनेशन पिलर एसटीपी, 20 एमजीडी औचंदी और जयंती रेगुलेटर परियोजनाओं की प्रगति के बारे में विस्तार से जानकारी दी। साथ ही, यूवाईआरबी और डीजेबी ने उपचारित अपशिष्टों के उपयोग की स्थिति को लेकर किए गए संयुक्त निरीक्षण के बारे में भी बताया। 

बैठक में दिल्ली जल बोर्ड के अधिकारियों ने बताया कि दिल्ली को 2031 तक करीब 1500 एमजीडी पानी की जरूरत पड़ेगी। दिल्ली की काॅलोनियों में पानी की आपूर्ति पाइप लाइन से पहुंचाने का प्रयास तेजी से जारी है। अभी तक 1799 काॅलोनियों में से 1622 में पाइप लाइन बिछाई जा चुकी है। अगले कुछ महीने में इन काॅलोनियों में पाइप लाइन से साफ पानी की आपूर्ति शुरू हो जाएगी। इसके अलावा, 113 काॅलोनियों को छोड़ कर बाकी में मार्च 2022 तक पानी की पाइप लाइन पहुंच जाएगी। 

 दिल्ली की कालोनियों में जलापूर्ति की स्थिति

वाटर प्रोजेक्ट के तहत पीपीपी एरिया और संगम विहार कालोनी की कुल 580 कालोनियां आती हैं। इसमें 517 कॉलोनियों को पानी के नेटवर्क से जोड़ा जा चुका है। बाकी कॉलोनी में दिसंबर 2021 तक काम पूरा कर लिया जाएगा। वहीं, दिल्ली में कुल 1799 कच्ची कालोनियां हैं। इसमे से पूर्वी दिल्ली में 260 कालोनियां है, जिसमें से 256 कॉलोनियों को वाटर नेटवर्क से जोड़ा जा चुका है। बाकी कॉलोनी को डीमार्केशन और एनओसी मिलने के 8 महीने के बाद पूरा कर लिया जाएगा। साउथ दिल्ली में 432 कॉलोनी है, जिसमें 352 कॉलोनी तक पानी का नेटवर्क पहुंचाया जा चुका है और बाकी को मार्च 2020 तक पूरा कर लिया जाएगा। सेंट्रल दिल्ली और नार्थ दिल्ली में कुल 144 कॉलोनी है। जिसमें 138 कॉलोनी को पानी के नेटवर्क से जोड़ा जा चुका है और शेष कॉलोनी में मार्च 2022 तक पानी पहुंचा दिया जाएगा। वेस्ट दिल्ली में 383 कॉलोनी है, जिसमें से 359 कॉलोनियों में पानी नेटवर्क पहुंच चुका है और शेष में 31 अक्टूबर 2021 तक पानी पहुंचा दिया जाएगा। पूरी दिल्ली में कुल 1799 कालोनियों में से 1622 कालोनियों में पानी पहुंच चुका है और पानी का नेटवर्क बिछाया जा चुका है। दिल्ली सरकार इस बात के लिए प्रतिबद्ध है कि मार्च 2022 तक दिल्ली की सभी अनाधिकृत व अधिकृत कॉलोनियों में पानी पहुंचा दिया जाए।
टिप्पणियां