विशिष्ट केमिकल कंपनी अनुपम रसायन ने Rs. 760 Cr. के आई.पी.ओ. के लिए आवेदन किया

 

सूरत में स्थित अनुकूलित विकास एवं विनिर्माण पर केंद्रित एक विशिष्ट केमिकल्स कंपनी ने कुल Rs. 760 Cr. एकत्रित करने के लिए अपने डी.आर.एच.पी. को नियामकों के समक्ष प्रस्तुत किया है। इस निर्गम से प्राप्त होने वाली आय का उपयोग मुख्य रूप ऋण का भुगतान करने के लिए किया जायेगा। जैसा कि डी.आर.एच.पी. में बताया गया है, कंपनी कर्मचारियों के लिए आरक्षित भाग में से उन योग्य कर्मचारियों के लिए कर्मचारी छूट पर विचार कर सकती है जो के लिए बोली लगायेंगे।

इस कंपनी ने 1984 में अपने पारंपरिक उत्पादों के साथ अपना काम-काज आरंभ किया था और अब विशिष्ट रसायनों में अपना एक विशेष स्थान बना लिया है जिसमें बहुचरणीय संश्लेषण और जटिल रसायन प्रक्रियायें जैसे कि ईथरिफिकेशन, एसिलेशन, साइक्लाइज़ेशन, डायज़ोटाइज़ेशन और हाइड्रोलिसिस आदि शामिल हैं। यह कंपनी मौजूदा समय में गुजरात में स्थित 6 बहु-उद्देशीय विनिर्माण सुविधाओं को संचालित कर रही है, जिनमें से 4 सुविधायें सचिन के अधिसूचित औद्योगिक क्षेत्र में स्थित हैं और अडानी हज़ीरा पोर्ट के निकट हैं, अन्य 2 सुविधायें झगड़िआ के अधिसूचित औद्योगिक क्षेत्र में स्थित हैं। इन सभी सुविधाओं में लगभग 23,396 मीट्रिक टन की कुल संयुक्त स्थापित क्षमता है, जिसमें से 6,726 मीट्रिक टन मार्च 2020 में झगडिया यूनिट - 5 और सचिन यूनिट - 6 के व्यावसायीकरण के साथ बढ़ाया गया था।

अपनी अनुसंधान एवं विकास क्षमताओं और लागत के पारदर्शी मॉडल के कारण, यह कृषि रसायन, व्यक्तिगत सज्जा और दवाओं के क्षेत्रों को सेवायें प्रदान करने के लिए "जीवन विज्ञान से संबंधित विशिष्ट रसायनों" की प्रक्रिया की अभिनवता और विकास हेतु "एक ही स्थान पर समाधान" के रूप में कार्य करने में सक्षम है जिसने वित्तवर्ष 2020 में अपने राजस्व का 95.37% और विशिष्ट पिगमेंट और पॉलिमर एडिटिव्स में उपयोग किए जाने वाले "अन्य विशिष्ट रसायनों" का का लेखा-जोखा प्रस्तुत किया था। अनुपम दुनिया की उन चुनिंदा कंपनियों में से एक है जिसने व्यावसायिक स्तर पर निर्बाध और प्रवाह रसायन विज्ञान प्रौद्योगिकी विकसित की है और अपने ग्राहकों द्वारा अपनी अभिनवकारी क्षमताओं के लिए मान्यता प्राप्त की है और इसके सिनजेन्टा एशिया पैसिफिक, सुमितोमो केमिकल कंपनी, यूरोप भर में यू.पी.एल., जापान, संयुक्त राज्य अमेरिका और भारत के ग्राहकों के साथ दीर्घकालिक व्यावसायिक संबंध है।

वित्तवर्ष 2018 से लेकर वित्तवर्ष 2020 तक, कंपनी का राजस्व 24.29% के सी..जी.आर. से बढ़ा है और वित्त वर्ष 2015 के लिए इसका .बी.आई.टी.डी.. Rs. 134.90 Cr. था। कोविड-19 महामारी के कारण लागू किए गए लॉकडाउन के बावजूद, 30 सितंबर, 2019, और 30 सितंबर, 2020 की तुलनात्मक अवधि के लिए कंपनी का अर्ध-वार्षिक राजस्व 51.51% यानि Rs. 234.40 Cr. से बढ़कर Rs. 355.12 Cr. हो गया।

भारत का विशिष्ट रसायन उद्योग वैश्विक विशिष्ट रसायन वर्ग में महत्वपूर्ण वृद्धि हासिल करने के लिए कार्यरत है, क्योंकि वर्तमान समय में भारत का विशिष्ट रसायन खंड पूरे विश्व माँग के केवल 1-2% को पूरा कर पाता है और अगले विश्वस्तर पर अंतिम-उपयोगकर्ता उद्योगों की बढ़ती माँग के कारण 5 वर्षों में 10-11% सी..जी.आर. से बढ़ने की ओर निरंतर अग्रसर है। (स्रोत: एफएंडएस रिपोर्ट)

इस निर्गम के लिए नियुक्त बैंकर्स हैं एक्सिस कैपिटल, एम्बिट प्राइवेट, आई.आई.एफ.एल. सिक्योरिटीज़ और जे.एम. फाइनेंशियल

टिप्पणियां