कैबिनेट मंत्री राजेंद्र पाल गौतम ने ऑब्जर्वेशन होम फॉर बॉयज एंड गर्ल्स, निर्मल छाया और नारी निकेतन का किया औचिक निरीक्षण
मंगलवार को महिला एवं बाल विकास मंत्री राजेंद्र पाल गौतम ने महिला बाल विकास और समाज कल्याण विभाग के अंतर्गत आने वाली संस्थाओं जैसे ऑब्जर्वेशन होम फॉर बॉयज एंड गर्ल्स, निर्मल छाया और नारी निकेतन का औचिक निरीक्षण किया। 


 

निरीक्षण के दौरान उन्होंने पाया कि सभी होम्स में बच्चों को अच्छी सुविधा प्राप्त हो रही है और साथ ही साफ सफाई का भी पूरा ध्यान रखा जा रहा है। 

 

नारी निकेतन में आइसोलेशन वार्ड बनाया गया था, जहां अभी 13 बच्चियों को रखा जा रहा है। 


 

चिल्ड्रेन होम फॉर गर्ल्स में फिलहाल 90 बच्चियां है। कैबिनेट मंत्री राजेंद्र पाल गौतम ने कहा कि जिस तरह की घटनाएं बिहार और यूपी में देखने को मिली, ऐसी किसी भी प्रकार की कोई संभावना भविष्य में भी दूर दूर तक न हो, इसलिए मैं लगातार सभी होम्स का औचक निरीक्षण बारीकी से कर रहा हूं। साथ ही वरिष्ठ अधिकारियों को हिदायतें भी दी जा रही हैं कि पुरुषों की एंट्री इन होम्स में न हो, इसका खास ख्याल रखा जाए"। 


 

इसी के मद्देनजर, सभी जगह महिलाओं की ही तैनाती की गई है। कैबिनेट मंत्री ने यह भी कहा कि अगर कभी किसी भी तरह की समस्या के लिए, पुरुष कामगार को बुलाने की आवश्यकता पड़ती है तो उसके बाहर जाने तक, कोई महिला अधिकारी उनके साथ मौजूद रहे।

 

ऑब्जर्वेशन होम्स फॉर गर्ल्स में स्टाफ ने सभी बच्चों को कई तरह की एक्टिविटीज कराई जाती है, जिससे बच्चे व्यस्त रहते हैं और किसी कौशल में निपुणता भी हासिल कर लेते हैं। जैसे सिलाई, कढ़ाई, हैंडीक्राफ्ट और पेंटिंग पर खूब ज़ोर दिया जाता है, जिससे बच्चे अपने अंदर की प्रतिभा को उभारने में मदद मिलती है। 

सबसे अद्भुत नज़ारा निर्मल छाया गर्ल्स होम में देखने को मिला, जहां पर सभी बच्चों ने कोरोना योद्धाओं के लिए सर्जिकल एवम् कपड़े के मास्क सिलने का काम शुरू कर दिया था। जिन्हे में किफायती दाम पर बेच दिया जाता है। 


 

कैबिनेट मंत्री राजेन्द्र पाल गौतम ने कहा कि मुझे यह देखकर बहुत खुशी हुई कि बच्चे इस महामारी से लड़ने में इतना बड़ा योगदान दे रहे है। वह हमारे कारोना योद्धाओं से लिए मास्क बना रहे है। यह मास्क मात्र ₹10 का है जिसे पुलिस कर्मी और बीएसएफ जवान इस्तेमाल कर रहे हैं जो इस महामारी में फ्रंट लाइन पर खड़े होकर हमारी जान बचा रहे है। यहां पर केवल कपड़े के ही नहीं बल्कि अच्छी क्वालिटी के सर्जिकल मास्क भी बनाए जा रहे है। मुझे अच्छा लगा कि यहां का स्टाफ बच्चों को कोरोना के बारे जागरूक कर रहा और ऐसी अनोखी मुहीम चला रहा है।

 

कैबिनेट मंत्री ने सभी होम्स में खाने के प्रबंध का निरीक्षण किया। उन्होंने खुद भोजन चख कर उसको टेस्ट किया। उनका कहना है कि बच्चों का अच्छे से ध्यान रखा जा रहा है। यहां छोटे बच्चों को दिए जाने वाले खाने का भी निरीक्षण किया जिसमें पाया कि उन्हें भरपूर मात्रा में पौष्टिक आहार दिया जा रहा है। 

 

गौरतलब है कि पिछले कई दिनों से कैबिनेट मंत्री लगातार महिला एवं बाल विकास व समाज कल्याण विभाग के अंतर्गत आने वाले होम्स का और अन्य कार्यालयों का निरीक्षण कर रहे है। किसी भी खामी पर तत्काल उसे दुरुस्त करने के आदेश भी दे रहे हैं।

टिप्पणियां