मांगो को लेकर बीमा कर्मियों ने किया मण्डल कार्यालय पर प्रदर्शन।



केन्द्रीय श्रम संगठनों के नेतृत्व मैं ऑल इंडिया इंश्योरेंस इंप्लाइज एसोसिएशन(एआईआईईए)के आह्वान पर एलआईसी में कार्यरत डिविजन इंश्योरेंस इंप्लाइज यूनियन के सभी सदस्य अपनी विभिन्न मांगों व केंद्रीय श्रम संगठनों के मांगों के समर्थन में एक दिवसीय हड़ताल पर रहे। प्रदर्शन कारियों की प्रमुख मांगे एलआईसी को शेयर मार्केट में लाने की नीति पर रोक लगाने,बीमा क्षेत्र में एफडीआई बढ़ाने की कोशिश बंद करने, एलआईसी व अन्य सार्वजनिक क्षेत्र के निजीकरण के प्रयास पर रोक लगाने, नई पेंशन को वापस कर सभी को पुरानी पेंशन लागू करने, श्रम कानूनों में बदलाव पर रोक लगाने, इंश्योरेंस प्रीमियम पर जीएसटी वापस लेने की है। साथ ही साथ महंगाई व बेरोजगारी पर रोक लगाने,सरकार से स्थाई रोजगार देने की मांग को लेकर जबरदस्त प्रदर्शन किया गया। एलआईसी में 1 अगस्त 2017 से वेतन पुनरीक्षण लंबित है उसे शीघ्र लागू करने की मांग भी की गई। भारतीय जीवन बीमा निगम के मंडल कार्यालय व सभी 22 शाखाओं में बीमा संबंधी सभी कार्य आज ठप रहा। हड़ताल में मौजूद साथियों को संबोधित करते हुए महामंत्री रूपेश पांडेय ने उक्त मांगों के बारे में विस्तृत जानकारी दी और सरकार द्वारा मजदूर किसान विरोधी आर्थिक नीतियों को बदलने पर भविष्य में और संघर्ष को तेज करने का आह्वान किया। मंडल कार्यालय गेट पर बीमा कर्मियों ने जोरदार प्रदर्शन कर कार्य बहिष्कार किया। प्रदर्शन में मुख्य रूप से ताहिर अली, अजय सिंह, उमेश श्रीवास्तव(कायस्थ शिरोमणि), आशीष भूषण, जनार्दन, पीएन तिवारी, राम सूरत, मनोज कुमार, रूपम शर्मा, राजीव दुबे, वाजिद अली समेंत भारी संख्या में बीमा कर्मियों ने भाग लिया। 

 

 



 

टिप्पणियां