बैंक ऑफ महाराष्ट्र द्वारा एमसीएलआर में 10 बीपीएस अंकों और आरएलएलआर में 25 बीपीएस अंकों की कमी की गई

देश के सार्वजनिक क्षेत्र के अग्रणी बैंक, बैंक ऑफ महाराष्ट्र ने विभिन्न अवधियों हेतु अपने बेंचमार्क उधारी दरों में अर्थात् निधि आधारित उधारी दरों की मार्जिनल लागत (एमसीएलआर) में कमी की है। एमसीएलआर में 8 अक्तूबर, 2019 से सभी एमसीएलआर अवधियों हेतु विद्यमान स्तर से 10 बीपीएस की कमी की है।
बैंक का एक वर्ष एमसीएलआर 8.40 प्रतिशत होगा जो कि बाजार के वर्तमान परिदृश्य में बहुत प्रतिस्पर्धी है। अन्य सभी अवधियों, ओवरनाइट, एक माह, तीन माह और छह माह की दरें क्रमशः 8.05%, 8.15%, 8.20% और 8.30% हैं।
भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा रेपो रेट में की गई कमी के अनुकरण में रिटेल और एमएसएमई उधारकर्ताओं हेतु रेपो लिंक उधारी दरों (आरएलएलआर) में भी 25 बेसिस अंकों की कमी की गई है। इससे रिटेल और एमएसएमई उधारकर्ताओं को और अधिक लाभ मिलेगा।


टिप्पणियां